;

Post Details

जीवन की भाग-दौड़ में,
क्यूँ वक़्त के साथ रंगत खो जाती है,
हँसती-खेलती ज़िन्दगी भी आम हो जाती है ।।